लॉकडाउन में फंसे 36 लाख लोगों के पास राशन कार्ड नहीं, मंत्री बोले- तीन दिन में बनाकर करेंगे अनाज

[ad_1]

लॉकडाउन में फंसे 36 लाख लोगों के पास राशन कार्ड नहीं, मंत्री बोले- तीन दिन में बनाकर करेंगे अनाज

बिहार के 36 लाख परिवारों के पास राशन कार्ड नहीं है
(सांकेतिक चित्र)

लॉकडाउन की हालत में बिहार सरकार ने कार्ड धारियों को मुफ्त अनाज देने की घोषणा तो कर दी पर हकीकत है कि अब भी बिहार में लाखों गरीबों का कार्ड तक नहीं बना है। बिहार के खाद्य आपूर्ति मंत्री के दावे और हकीकत के बीच की कहानी जानिए

पटना। बिहार में लॉकडाउन की स्थिति में गरीबों को राशन मिलना मुश्किल हो गया है। एक तरफ सरकार कहती है कि सभी को राशन दिया जाएगा पर दूरी की हकीकत ये है कि अभी तक बिहार सरकार ने लाखों गरीबों का राशन कार्ड तक नहीं बनाया है। ऐसे में गेमिंगबो को सरकार द्वारा घोषित मुफ्त राशन कैसे मिलेगा इसका कोई नहीं है। जरा जानिए राशन कार्ड की हकीकत।

अभी भी 36 लाख लोगों के पास राशन कार्ड नहीं है

बिहार सरकार ने सभी गरीबों को 5 किलो चावल और 1 किलो दाल मुफ्त में देने का फैसला किया है। अप्रैल महीने में सभी को राशन मुहैया भी करना देने का दावा किया है पर यह दावा पूरा होता है कोई दिखाई नहीं पड़ रहा है। बिहार की जनसंख्या आज लगभग साढ़े 11 करोड़ है। सरकार का दावा है कि अब तक 1.68 करोड़ परिवारों का राशन कार्ड बन चुका है जबकि पिछले विधानसभा सत्र के दौरान ये बातें निकल कर आई थीं कि कई ऐसे राशन कार्ड हैं जो फर्जी हैं जिन्हें हटाने की बात चल रही है। दूसरी तरफ खाद्य आपूर्ति मंत्री मदन सहनी खुद मानते हैं कि अब तक 47 लाख नए आवेदन आये हैं जिनमें से सिर्फ 11 लाख परिवार तक ही कार्ड पहुंच पाए हैं। मतलब साफ है कि अब भी 36 लाख लोगों को कार्ड नहीं पहुंच पाया है। ये 36 लाख लोग कब तक और कैसे अनाज पहुंचेंगे अब तक साफ नहीं है।मंत्री 3 दिन में 36 लाख राशन कार्ड बनाने के कर रहे हैं दावा,

अब जब गरीबों तक खाना पहुंचाने की बात हो रही है तो कार्ड बनवाने की बात कही जा रही है। सीएम नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि जिनके पास राशन कार्ड नहीं है तत्काल कार्ड बनाया जाए और राशन मुहैया कराया जाए। कई वर्षों में अब तक सभी का राशन कार्ड नहीं बनने के बाद 36 लाख लोगों के कार्ड बनाने की बात पर खाद्य आपूर्ति मंत्री मदन साहनी के दावा है कि अगले तीन दिनों में सबका राशन कार्ड बन जाएगा और सभी को मुफ्त राशन भी दिया जाएगा।

कांग्रेस ने मंत्री के दावे पर उठाया सवाल

सभी को कार्ड बनाने और राशन मुहैया कराने के मंत्री के दावे को खोखला बताते हुए कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने बताया कि सरकार सिर्फ घोषणा कर रही है। धरातल पर जरूरतमंदों को राशन मुहैया नहीं कराया जा रहा है। प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि अब तक लाखों लोगों का कार्ड क्यों नहीं बन पाया। जब जरूरत आन पड़ी है तो सिर्फ दावे किए जा रहे हैं।

कई पंचायतों में पीडीएस की दुकानें बंद रहीं

तमाम दावों के बावजूद पटना के ही कई ऐसे पंचायत हैं जहां पीडीएफ की दुकानें बंद रहती हैं। फुलवारीशरीफ प्रखंड के गोनपुरा पंचायत में 6 पीडीएस दुकान में सिर्फ एक में ही राशन का सामान बंट रहा है। गोनपुरा पंचायत की मुखिया आशा देवी ने बताया कि मुफ्त राशन देने की बात हुई है पर अभी तक दुकानों में गोदाम से राशन भेजा ही नहीं गया है इसलिए लोगों को नहीं मिल पा रहा है। हालांकि मुखिया ने यह भी बताया कि पिछले मार्च तक का राशन सभी को दिया जा चुका है।

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए पटना से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 15 अप्रैल, 2020, 6:10 PM IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->



[ad_2]

Source link